हमारा नौकर हिंदी निबंध | ESSAY ON SERVANT IN HINDI

नमस्कार मित्रों, आपका हमारे वेबसाइट पे स्वागत है, आज इस पोस्ट मे हम लोग “हमारा नौकर हिंदी निबंध” इस विषय पर निबंध पढेंगे, इस निबंध का उपयोग आप अपने स्कूल के लिए कर सकते है, और निबंध स्पर्धांओ के लिए भी “ESSAY ON SERVANT IN HINDI” ये निबंध बहोत उपयोगी है | 

लेख में शामिल बातें

  • परिचय
  • कार्य
  • ईमानदार
  • उपसंहार।

हमारा नौकर हिंदी निबंध | ESSAY ON SERVANT IN HINDI

गोपाल हमारे घर का नौकर है। हम उसे अपने परिवार का ही एक सदस्य मानते हैं। कई वर्षों से वह हमारे साथ रहता है और ईमानदारी से हमारी सेवा करता है। उसकी उम्र लगभग चालीस वर्ष की है, पर वह बहुत चुस्त और फुर्तीला है।

गोपाल बड़े सवेरे उठकर पानी भरता है और हमारे लिए चाय बनाता है। फिर वह बाजार से साग-सब्जी खरीदकर लाता है। घर की सफाई और देखभाल करने की जिम्मेदारी उसी पर है। वह मेरे छोटे भाई – बहनों को पाठशाला पहुँचाता है। कपड़ों पर इस्तरी करना, बाजार से वस्तुएँ खरीद कर लाना, उनका हिसाब रखना आदि घर के कई काम गोपाल ही करता है।

गोपाल अपने सभी काम पूरी ईमानदारी से करता है। वह बोलता कम है, पर काम ज्यादा करता है। वह पढ़ा कम है,

परंतु उसमें व्यावहारिक ज्ञान काफी है। हमारे परिवार के बच्चों को खेलाने और उनके साथ खेलने में उसे विशेष आनंद मिलता है। मेरी छोटी बहन सोनल के लिए उसके दिल में अपार स्नेह है यदि घर में कोई न हो, तो हमारे सगे-संबंधियों और मित्रों का आदर-सत्कार गोपाल ही करता है ।

चाहे बच्चों को संभालना हो, चाहे दुकान का काम हो, चाहे खरीद-बिक्री हो, चाहे बैंक से रुपए लाने हो, गोपाल सदा तैयार रहता है। वह कभी खाने-पीने के बारे में शिकायत नहीं करता। दिन हो या रात, सर्दी हो या गर्मी गोपाल किसी काम के लिए इनकार नहीं करता।

हम थोड़ा-बहुत गोपाल को पढ़ाना चाहते है, किंतु जब हम उसे पढ़ाने की कोशिश करते हैं, तब वह पढ़ाई में ज्यादा रुचि नहीं लेता। हमारे घर और कपड़ों की स्वच्छता पर उसका पूरा ध्यान रहता है।

गोपाल की सेवावृत्ति, सादगी और स्नेह ने हम सबके दिलों को जीत लिया है। अब हमारे लिए उसे अपने परिवार से अलग करना संभव नहीं है।

यह निबंध भी पढ़ें –